Facebook SDK

Ayurvedic Gharelu Nuskhe in Hindi for Glowing Face

ग्लोइंग स्किन के लिए 6 घरेलू नुस्खे
ग्लोइंग स्किन के लिए 6 घरेलू नुस्खे

ग्लोइंग स्किन के लिए 6 घरेलू नुस्खे: हर कोई चाहता है कि उनकी त्वचा सुंदर दिखे, और चेहरा दमक उठे। जब त्वचा सुंदर होती है, तो व्यक्तित्व में सुधार होता है। व्यक्ति का हर अंग आकर्षक दिखता है।

वास्तव में, त्वचा वह माध्यम है जिससे सुंदरता की पहचान की जाती है। (Glowing Skin Ke Liye 6 Gharelu Nuskhe) कई बार अलग-अलग कारणों से त्वचा का रूखापन कम हो जाता है। त्वचा की टोन कम होने के कारण, लोग विभिन्न घरेलू प्रयास करते हैं (gharelu nuskhe in hindi for glowing face)


आयुर्वेद में चेहरे की चमक लाने के लिए बहुत ही सरल उपाय बताए गए हैं। अगर आप भी आयुर्वेद से त्वचा वापस पाना चाहते हैं, तो आप इन तरीकों को आजमा सकते हैं।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: Glowing Skin Tips in Hindi

त्वचा की चमक क्यों चली जाती है? (Causes & Symptoms of the Skin Problem)

आपकी त्वचा की चमक की कमी के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से मुख्य हैं

  • उम्र
  • तनाव
  • अस्वस्थ जीवनशैली अपनाना जैसे- धूम्रपान, मदिरा सेवन, नशीली दवाओं का सेवन, और अस्वस्थ खान-पान की आदतें।
  • शरीर में हार्मोनल परिवर्तन।
  • सूर्य की रोशनी के सम्पर्क में अधिक आना।
इन बातों का ध्यान रखकर आप अपने चेहरे के रंग को खोने से बचा सकते हैं।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: 6 important tips for glowing skin hindi

त्वचा के प्रकार

आम तौर पर, त्वचा तीन प्रकार की होती है
  • रूखी त्वचा (Dry Skin)
  • तैलीय त्वचा (Oily Skin)
  • सामान्य मिश्रित त्वचा (Mixed Skin)

मिश्रित त्वचा कई लोगों में पाई जाती है, और ऐसी त्वचा गर्मियों में बहुत तैलीय हो जाती है, और सर्दियों में बहुत शुष्क हो जाती है।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: Gora Hone Ke Upay Ladko Ke Liye

त्वचा की चमक खोने का मुख्य कारण मेलाज्मा (Skin Problem Due to Melasma)

यदि आप अपने चेहरे पर चमक लाना चाहते हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि मेलास्मा क्या है, और इससे कैसे बचा जाए। मेल्स्मा एक आम त्वचा विकार है। (6 Home Remedies for Glowing Skin in Hindi
) यह चेहरे पर भूरे रंग के धब्बे जैसा दिखता है। इसे हरी त्वचा (कोलोस्मा) भी कहा जाता है। मां बनने के समय अधिकांश महिलाओं में मेलास्मा के निशान देखे जाते हैं।

आमतौर पर ये निशान गालों, सिर और ठुड्डी के ऊपरी हिस्से पर देखे जाते हैं। 20 से 50 साल की उम्र की महिलाओं में यह समस्या अधिक पाई जाती है। (Gharelu Nuskhe in Hindi for Glowing Skin) यह रोग पुरुषों में भी हो सकता है, लेकिन यह बहुत ही दुर्लभ मामलों में देखा जाता है।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: Gora Hone Ka Tarika in Hindi

मेलाज्मा होने के कारण (Cause of Melasma in Hindi)

यह अस्वस्थ कोशिकाओं या मेलानोसाइट्स द्वारा भूरे मेलेनिन के अतिप्रवाह के कारण होता है। (Ayurvedic Gharelu Nuskhe in Hindi for Glowing Skin) मेलास्मा के सबसे गहरे संकेतों में गर्भावस्था, जन्म नियंत्रण की गोलियाँ, हार्मोन में बदलाव या असंतुलन, हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी, परिवार में किसी में मेलास्मा का इतिहास, आनुवांशिक और जातीय कारण और दवाएं शामिल हैं।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: फेस को चमकाने के आयुर्वेदिक तरीके

तीन प्रकार के मेलाज्मा देखे जाते हैं।

  • चेहरे के बीचोंबीच (Centrofacial )
  • गालों पर (मलार)
  • जबड़ों पर (Mandibular)
इसमें सिर, गालों, ऊपरी होठों, नाक और ठोढ़ी पर निशान उभर आते हैं, जो Centrofacial, Melasma का सामान्य रूप होते हैं।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: चेहरे को बेदाग और गोरा बनाने के उपाय

ग्लोइंग स्किन के लिए घरेलू उपचार | ग्लोइंग स्किन के नुस्खे

चेहरे पर ग्लो लाने के लिए आप इन ग्लोइंग स्किन को आजमा सकती हैं। यह न केवल आपकी त्वचा को स्वस्थ रखता है, बल्कि त्वचा की चमक को भी वापस लाता है।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: मर्दों को गोरा होने के उपाय

मेलाज्मा से बचने का तरीका | मेलाज्मा के लिए घरेलू उपाय

एक शोध के अनुसार, दुनिया भर में साढ़े चार से पांच करोड़ लोगों को मेल्स्मा की शिकायत है। इन पीड़ितों में 90% महिलाएं हैं। (ग्लोइंग स्किन के घरेलू नुस्खे) इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका सूरज की रोशनी में बाहर निकलना नहीं है, या खुद को सूरज की सीधी किरणों से बचाना है।

सूरज की रोशनी में अधिक समय बिताने से मेलस्मा की संभावना बढ़ जाती है। जिन लोगों के परिवार में मेलस्मा होता है, उन्हें धूप में अधिक समय बिताने से बचना चाहिए। (ग्लोइंग स्किन के लिए उपाय) इससे आपका चेहरा दमक सकता है। जब हार्मोन की दवाएं बंद हो जाती हैं, या गर्भावस्था बीतने के कुछ महीने बाद यह हल्का हो जाता है।

वातज, पित्तज और कफज त्वचा के लक्षण

आप इस तरह से त्वचा के गाउट, पित्त और त्वचा की पहचान कर सकते हैं: -

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: शहनाज हुसैन के ब्यूटी टिप्स घरेलू

वातज त्वचा की पहचान और उपाय 

वात की अधिकता वाली त्वचा शुष्क हो जाती है। ठंड के मौसम में यह बहुत सूखा होता है। यह जल्दी से उम्र के लिए अनुकूल है। यह समय से पहले अपना फैट खो देता है।

ऐसे में इसे विशेष देखभाल की जरूरत होती है। विशेष रूप से इस तरह की त्वचा को पोषण देने के लिए, किसी को प्राकृतिक तेलों से मालिश करनी चाहिए। इससे त्वचा में नमी बनी रहेगी और चेहरा सूखना (gharelu nuskhe in hindi for glowing face) दूर हो जाएगा। इसके अलावा आपको भरपूर नींद लेनी चाहिए।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: पूरा शरीर गोरा करने के उपाय

ग्लोइंग स्किन के घरेलु उपाय और पित्त त्वचा की पहचान और उपाय

जिसमें पित्त की अधिकता होती है, वहां त्वचा पर दाने, फुंसियां, बार-बार धूप पड़ने की संभावना होती है। यह बहुत संवेदनशील और नरम है, और इसमें हल्कापन और गर्मी है।

इस प्रकार की त्वचा पर चकत्ते और दाने अधिक होते हैं। पीली और संवेदनशील त्वचा के कारण पित्त धूप में प्रभावी है। ऐसी त्वचा में ठंडे तरल लेप और तेल से मालिश करनी चाहिए।
 
आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: शहनाज हुसैन के ब्यूटी टिप्स फॉर ग्लोइंग स्किन इन हिंदी

कपज स्किन की पहचान और उपाय

कपहाज की त्वचा अधिक तैलीय, मोटी और ठंडी होती है। ऐसी त्वचा के गंदे होने की संभावना अधिक होती है और मुंहासे होने की संभावना अधिक होती है। प्रभावित त्वचा की देखभाल के लिए विषाक्त पदार्थों को निकालना पड़ता है।

Ayurvedic Home Remedies for Glowing Skin in Hindi | त्वचा में निखार लाने के लिए घरेलू नुस्खे

चेहरे की चमक बढ़ाने के लिए घरेलू उपाय बहुत फायदेमंद होते हैं, जो हैं

1. नींबू ग्लोइंग स्किन के लिए 6 घरेलू नुस्खे

नींबू ग्लोइंग स्किन के लिए घरेलू नुस्खे
Glowing Skin Ke Liye 6 Gharelu Nuskhe

ताजा निचोड़ा हुआ नींबू का रस चेहरे और गर्दन पर लगाएं। दस मिनट बाद गुनगुने पानी से धो लें। नींबू में मौजूद साइट्रिक एसिड त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाने में मदद करता है, साथ ही कोशिकाओं के पुनर्जनन की प्रक्रिया को तेज करता है।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: Homemade Beauty Tips for Glowing Skin in Hindi

2. कैस्टर ऑयल ग्लोइंग स्किन के लिए 6 घरेलू नुस्खे

कैस्टर ऑयल ग्लोइंग स्किन के लिए घरेलू नुस्खे
Glowing Skin Ke Liye 6 Gharelu Nuskhe

चेहरे पर चमक जोड़ने के लिए नियमित रूप से कैस्टर ऑयल (अरंडी का तेल) से अपने चेहरे की मालिश करें, और चेहरे पर झुर्रियों को दूर करें।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: चेहरे को सुंदर कैसे बनाये

3. हल्दी और बेसन चमकती त्वचा के लिए घरेलू उपचार

हल्दी और बेसन चमकती त्वचा के लिए घरेलू उपचार
Glowing Skin Ke Liye 6 Gharelu Nuskhe

हल्दी पाउडर और बेसन को बराबर मात्रा में दूध में मिलाकर पेस्ट बना लें और इसे चेहरे और गर्दन पर लगाएं। सूख जाने पर गुनगुने पानी से धो लें। इससे चेहरा ग्लो करने लगता है।

त्वचा पर दाग या धब्बे मिटाने में हल्दी अच्छा काम करती है। यह एक बेहतर एंटीसेप्टिक है। त्वचा की चमक को बढ़ाता है, और त्वचा संक्रमण सहित कई त्वचा रोगों के लिए रामबाण है।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: ग्लोइंग स्किन के लिए क्या खाये

4. शहद ग्लोइंग स्किन के लिए 6 घरेलू नुस्खे

शहद ग्लोइंग स्किन के लिए घरेलू नुस्खे
Glowing Skin Ke Liye 6 Gharelu Nuskhe

शहद को चेहरे पर लगाएं और सूखने के बाद धो लें। यह एक अच्छा मच्छर है। यह चेहरे को कोमल और कोमल बनाता है। यह चेहरे की चमक को बढ़ाता है।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: रातों रात गोरा होने के उपाय

5. आलू का रस ग्लोइंग स्किन के लिए 6 घरेलू नुस्खे

आलू का रस ग्लोइंग स्किन के लिए घरेलू नुस्खे
Glowing Skin Ke Liye 6 Gharelu Nuskhe

ग्लोइंग स्किन के लिए घरेलू उपचार
कच्चे आलू का रस चेहरे पर लगाएं, और सूखने के बाद इसे धो लें। यह चेहरे से मुंहासों को हटाता है और त्वचा को कसता है।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: 10 Benefits of Applying Neem Paste on Face in Hindi

6. एलोवेरा ग्लोइंग स्किन के लिए 6 घरेलू नुस्खे

एलोवेरा ग्लोइंग स्किन के लिए घरेलू नुस्खे
Glowing Skin Ke Liye 6 Gharelu Nuskhe

चेहरे पर ताजा एलोवेरा का गूदा लगाएं। यह पिंपल्स को खत्म करता है, और ब्लेमिश को दूर करता है।

आप इसे भी पढिये आपके काम आयेगा ये आर्टिकल: चेहरे के किल-मुहासो के दाग हटाने के घरेलू उपाय

Your Questions for Skin Glowing

आयुर्वेदिक उपचार त्वचा को प्राकृतिक रूप से स्वस्थ बनाता है। यह एक स्वस्थ जीवन शैली और खाने दोनों के कारण है। कृत्रिम और रासायनिक उत्पाद त्वचा को कुछ समय के लिए ठीक कर देते हैं, लेकिन फिर से रोगग्रस्त हो जाते हैं।

आयुर्वेदिक उपचार तीनों दोषों, वात, पित्त और कफ को संतुलित करके शरीर को स्वस्थ बनाने में मदद करते हैं। कई बार, समाज में यह गलत धारणा भी देखी गई है कि आयुर्वेद के उपाय से हर व्यक्ति को फायदा नहीं हुआ है। वास्तव में यह केवल एक मिथक है। यह आवश्यक है कि प्रत्येक व्यक्ति के दोषों का निरीक्षण किया जाए और उसके अनुसार इलाज किया जाए।

यदि व्यक्ति स्वस्थ है, तो चमकती त्वचा अपने आप त्वचा पर आ जाएगी। इसलिए अनावश्यक रूप से सौंदर्य प्रसाधनों में पैसा लगाने के बजाय संतुलित आहार, और जीवनशैली के साथ त्वचा में प्राकृतिक चमक लाएं।

ध्यान दें:

इस लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के हैं। इस लेख में समाहित किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, वैधता या वैधता के लिए उपचार । सभी जानकारी एक आधार पर प्रदान की जाती है। लेख में व्यक्त की गई जानकारी, तथ्य या राय हेल्थऍक्टिव्ह और हेल्थऍक्टिव्ह की राय को नहीं दर्शाती है, जिसके लिए हेल्थऍक्टिव्ह  कोई जिम्मेदारी या दायित्व स्वीकार नहीं करता है।

Post a Comment

तुम्हाला काही अडचण असेल तर तुम्ही कंमेन्ट करून विचारू शकतात

थोडे नवीन जरा जुने