Haldi Wala Doodh Peene Ke 14 Fayde Aur Nuksan


Haldi Wala Doodh Peene Ke 14 Fayde Aur Nuksan
Haldi Wala Doodh Peene Ke 14 Fayde Aur Nuksan

Haldi Wala Doodh Peene Ke 14 Fayde Aur Nuksan: कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने के लिए दादी माँ की दादी माँ के उपचार में हल्दी वाला दूध हमेशा सबसे पहले आता है। शायद यही वजह है कि जब भी कोई शारीरिक समस्या होती है तो हल्दी वाले दूध का नाम लिया जाता है। बेशक, हल्दी वाले दूध का स्वाद सभी को पसंद नहीं आता, लेकिन हल्दी वाले दूध के फायदे इतने हैं कि आप इसे नजर अंदाज नहीं कर सकते। 

इस लिये हमने आपके लिये हल्दी वाला दुध पिने के १४ फायदे और नुक्सान आर्टिकल लिखा है आपको इस आर्टिकल को पुरा पढना होगा आप पुरा पढ लोगे तो आपको Haldi Wala Doodh Peene Ke 14 Fayde Aur Nuksan का पता चल जायेगा और इस का आपको फायदा भी होगा

इसलिए, कई बार स्वास्थ्य लाभ के लिए इसका सेवन करना पड़ता है। HEALTHACTIVE.CO.IN के इस लेख में हम आपको हल्दी वाला दूध पीने के फायदों के बारे में बताएंगे। आप कुछ लाभों से परिचित होंगे, लेकिन हल्दी वाले दूध के कई फायदे हैं जिनसे आप अब तक अनजान हो सकते हैं।

इसे भी पढे: 6 Healthy Lifestyle Tips in Hindi

हल्दी वाला दूध पिणे के 14 फायदे और नुकसान को जानने से पहले आइए हल्दी को मिलाकर और दूध बनाकर खाना आपके शरीर के लिए कितना फायदेमंद है।


विषय सूची
  • हल्दी वाला दूध आपके के लिए क्यों अच्छा है?
  • हल्दी दूध के फायदे – 14 Benefits of Turmeric Milk in Hindi
  • हल्दी दूध के पौष्टिक तत्व – 14 Turmeric Milk Nutritional Value in Hindi
  • हल्दी वाला दूध बनाने के 5 तरीके - How to make turmeric milk 5 tips in Hindi
  • हल्दी दूध का उपयोग –  How to Drink Turmeric Milk 14 tips in Hindi
  • हल्दी दूध के नुकसान – 6 Side Effects of Turmeric Milk in Hindi


    हल्दी दूध आपके लिए अच्छा क्यों है?

    आपने कई बार सुना होगा कि हल्दी वाला दूध शरीर के लिए अच्छा होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह आपके लिए कितना फायदेमंद है? आइए हम बताते हैं। दरअसल, हल्दी में प्राकृतिक एंटीबायोटिक गुण होते हैं और दूध कैल्शियम से भरपूर होता है। जब आप दूध और हल्दी दोनों को एक साथ मिलाते हैं, तो दोनों में मौजूद पोषक तत्व आपके शरीर को बीमारियों और संक्रमणों से बचाने के साथ-साथ भरपूर ऊर्जा भी प्रदान करते हैं।

    हल्दी में करक्यूमिन कंपाउंड भी होता है जो पॉलीफेनोल होता है, जो आपके शरीर को कई बीमारियों से बचाने में मदद करता है। कर्क्यूमिन बीमारियों की रोकथाम के लिए फायदेमंद है, लेकिन शरीर के लिए इसे अवशोषित करना मुश्किल है। इसके अच्छे अवशोषण के लिए, इसे काली मिर्च और वसायुक्त खाद्य पदार्थों जैसे दूध और घी के साथ मिलाने की सलाह दी जाती है।

    Haldi Wala Doodh Peene Ke 14 Fayde Aur Nuksan - हल्दी वाला दूध पिणे के 14 फायदे


    1. पाचन

    यदि पेट और पाचन शक्ति ठीक से काम नहीं करती है, तो इसका आपके शरीर पर तेज़ प्रभाव पड़ता है। ऐसे में हल्दी वाला दूध आपकी आंतों को स्वस्थ रखने और पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। दरअसल, हल्दी में मौजूद करक्यूमिन एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टी की तरह काम करता है, जो शरीर को आंतों की बीमारियों को दूर करने में मदद करता है।

    इसे भी पढ़े: Kachi Haldi Benefits for Skin in Hindi

    2. जोड़ों का दर्द

    हर्बल टी में मौजूद करक्यूमिन और गोल्डन मिल्क नामक हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो जोड़ों और गठिया के दर्द को कम कर सकते हैं। साथ ही, हल्दी वाले दूध में एंटी-आर्थ्रिटिक गुण होते हैं, जो जोड़ों की सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

    इसे भी पढ़े: 5 Kayam churna weight loss Tips in Hindi

    3. अनिद्रा

    लोगों में अनिद्रा की समस्या बढ़ रही है। इस समस्या को दूर करने के लिए आप हल्दी वाले दूध का सेवन कर सकते हैं। विभिन्न अध्ययनों ने यह भी स्पष्ट किया है कि करक्यूमिन अनिद्रा से पीड़ित व्यक्ति में याददाश्त को भी सही करता है। ऐसी स्थिति में, जब भी आप सो नहीं पा रहे हों, तो रात को सोने जाने से पहले हल्दी-दूध पिएं या रोज लें।


    4. कैंसर

    कैंसर को सबसे खतरनाक बीमारी माना जाता है, जिससे बचाव के लिए यह बहुत जरूरी है। ऐसे में आप हल्दी-दूध ले सकते हैं। हल्दी-दूध में एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं। (Haldi Wala Doodh Peene Ke Fayde Bataye) हल्दी वाला दूध प्रोस्टेट और पेट के कैंसर के खतरे को कम कर सकता है या उन्हें बढ़ने से रोक सकता है। यह डीएनए कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले डीएनए के प्रभाव को कम करता है और कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों को कम करता है।


    5. अस्थि स्वास्थ्य

    हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम आवश्यक है। दूध में कैल्शियम होता है, जो आपकी हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। (Khali Pet Haldi Wala Doodh Peene Ke Fayde) हल्दी वाला दूध हड्डियों के नुकसान और ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डी की बीमारी) के खतरे को कम कर सकता है।


    6. मधुमेह

    हल्दी में मौजूद करक्यूमिन रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है, इसलिए यह मधुमेह की रोकथाम में उपयोगी माना जाता है। इसके अलावा, यह मधुमेह से संबंधित यकृत विकारों को रोकने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। (raat Mein Haldi Wala Doodh Peene Ke Fayde) हल्दी में मौजूद करक्यूमिन मधुमेह और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है, जो मधुमेह से संबंधित एक आम समस्या है। एक अध्ययन के अनुसार, डायबिटीज -1 रोगियों को 3 महीने तक रोजाना 5 ग्राम हल्दी देने से उनका ब्लड शुगर काफी हद तक कम हो गया है।


    7. वजन घटाने के लिए

    व्यस्त दिनचर्या, बाहर खाना, लंबे समय तक कुर्सी पर बैठना, व्यायाम न करना, तनाव और कई अन्य कारणों से लोग मोटापे से पीड़ित हैं। वजन बढ़ने के साथ शरीर बीमारियों से घिरता चला जाता है। ऐसे में हल्दी वाला दूध आपकी मदद कर सकता है।

    हल्दी वाला दूध वसा को कम कर सकता है, जो आपके वजन को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। कुछ अध्ययनों के अनुसार, हल्दी वाले दूध में मौजूद करक्यूमिन अधिक वजन वाले लोगों में वजन नियंत्रण का काम कर सकता है।

    पुढे पण वाचा: Haldichya Dudhache Fayde Ani Nuksan Marathi

    8. सर्दी और खांसी

    बदलते मौसम और कमजोर प्रतिरोधक क्षमता के कारण सर्दी होना आम बात है। ऐसी स्थिति में, घरेलू उपचार कभी-कभी जादू की तरह काम करते हैं और हल्दी-दूध भी उनमें से एक है। (Kachi Haldi Wala Doodh Peene Ke Fayde) हल्दी युक्त दूध अपने एंटीवायरल और एंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण सर्दी और खांसी को ठीक करने के लिए उपयोगी माना जाता है। यह गले में खराश, खांसी और सर्दी से तुरंत राहत देता है। अगर आप रोज हल्दी-दूध का सेवन करते हैं, तो आप जल्द ही शरीर को ठंड से बचा सकते हैं।

    हे पण वाचून घ्या: Vitamin B12 in marathi

    9. दिल की सेहत

    हल्दी में मौजूद करक्यूमिन हमारे शरीर में अच्छे साइटोकिन्स (एक प्रकार का प्रोटीन) के स्राव को रोकता है, जो हृदय रोग का कारण बनता है। (Haldi Wala Doodh Peene Ke Fayde for Skin) साथ ही, हल्दी के साथ अदरक का उपयोग करने से हृदय रोग को बढ़ाने वाले जोखिम कारकों को भी कम किया जा सकता है। अदरक में मौजूद बायोएक्टिव कंपाउंड हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करके अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।


    10. सूजन

    हल्दी वाले दूध में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो शरीर को सूजन से लड़ने में मदद करते हैं। हल्दी में मौजूद करक्यूमिन गठिया और अन्य बीमारियों से बचाता है जैसे कि यौगिक सूजन के कारण त्वचा रोग। (Haldi Wala Doodh Peene Ke Fayde) इसे आयुर्वेदिक चिकित्सा में 'प्राकृतिक एस्पिरिन' के रूप में भी जाना जाता है, जो सूजन और दर्द को ठीक कर सकता है।

    हे पण वाचून घ्या: Liver ke Sujan Ka gharelu Ilaj

    11. मस्तिष्क स्वास्थ्य

    हल्दी वाले दूध में मौजूद करक्यूमिन आपके मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। यह मस्तिष्क से संबंधित अवसाद और अल्जाइमर (स्मृति हानि) के जोखिम को कम करने में सहायक हो सकता है। यह पार्किंसंस रोग (मानसिक विकार) को दूर करने में भी मदद कर सकता है।

    इसे भी पढे: Simple Health Tips for Everyone in Hindi

    12. प्रतिरक्षा

    हल्दी वाले दूध में मौजूद करक्यूमिन एक इम्यूनोमॉड्यूलेटरी एजेंट के रूप में काम करता है। यह टी कोशिकाओं और बी कोशिकाओं सहित शरीर में मौजूद सभी स्वस्थ कोशिकाओं को बढ़ावा देने में मदद करता है। (Haldi Wala Doodh Peene Ke Fayde in Hindi) इन सभी कोशिकाओं की मदद से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। करक्यूमिन शरीर में एंटीबॉडी प्रतिक्रिया को भी बढ़ावा देता है, जिसकी मदद से हमारा शरीर गठिया, कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह और अल्जाइमर जैसी कई बीमारियों से बचाता है। इसके अलावा हल्दी वाले दूध के फायदों में आपको ठंड और गले में खराश से बचाना शामिल है।

    इसे भी पढे: Pairo Ki Thakan Dur Karne Ka Desi Upay

    13. डिटॉक्स

    ज्यादातर लोग तला हुआ, मसालेदार या जंक फूड खाना पसंद करते हैं, जिसका सीधा असर लिवर पर पड़ता है। इसलिए, शरीर में मौजूद विषाक्तता को हटाने के लिए शरीर को detoxify करना आवश्यक हो जाता है। ऐसे में, हल्दी-दूध एक प्राकृतिक लिवर डिटॉक्सिफिकेशन की तरह काम करता है, जो लिवर की कार्यप्रणाली को तेज करता है।


    14. त्वचा का स्वास्थ्य

    धूल और मिट्टी के प्रदूषण के कारण त्वचा की चमक लगातार फीकी पड़ने लगती है। साथ ही, स्किन इंफेक्शन का भी खतरा रहता है। ऐसे में हल्दी-दूध आपकी त्वचा के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। (Haldi Wala Doodh Peene Ke Fayde Aur Nuksan) ग्लोइंग स्किन के लिए आप हल्दी वाला दूध ले सकते हैं या फिर आप हल्दी में रुई भिगोकर चेहरे पर लगा सकते हैं, जिससे आपका चेहरा दमकता रहेगा। इसके अलावा, इसमें मौजूद करक्यूमिन आपको त्वचा के कैंसर और अन्य संक्रमणों से बचाता है। यह त्वचा पर खराब बैक्टीरिया से लड़ने में भी मदद करता है।

    इसे भी पढे: Medohar Vati Patanjali Benefits in Hindi

    हल्दी दूध बनाने की विधि | हल्दी वाला दूध कैसे बनता है

    हल्दी वाला दूध पीने के फायदे तो आप जान ही चुके हैं। आइए आज हम आपको बताते हैं कि घर पर आसानी से हल्दी वाला दूध कैसे बनाया जाता है। वहीं, अगर आपको इसका स्वाद पसंद नहीं है, तो आप इसमें शहद भी मिला सकते हैं। हल्दी दूध बनाने की विधि नीचे पढ़ें:

    सामग्री :
    • एक चम्मच हल्दी पाउडर
    • दूध का एक गिलास
    • एक चुटकी दालचीनी पाउडर
    • एक चुटकी अदरक पाउडर
    • 1 चुटकी पिसी हुई काली मिर्च
    • स्वाद के लिए शहद (वैकल्पिक)

    बनाने का तरीका:
    • 1. हल्दी पाउडर और अन्य पदार्थों को मिलाकर दूध को लगभग 5 मिनट तक उबालें।
    • 2. अब इस हल्दी वाले दूध को छान लें और एक गिलास में डालें।
    • 3. अधिक लाभ के लिए गर्म हल्दी-दूध पिएं।
    • 4. स्वाद के लिए आप गुनगुने दूध में शहद भी मिला सकते हैं।
    • 5. हल्दी दूध के फायदे और हल्दी दूध बनाने के तरीके जानने के बाद, अब हम जानते हैं कि हल्दी दूध का उपयोग कैसे किया जा सकता है।

    हल्दी मिल्क डैमेज - 6 Side Effects of Turmeric Milk in Hindi

    हल्दी वाले दूध के नुकसान के बारे में जानना भी आपके लिए ज़रूरी है। जी हां, हल्दी वाला दूध पीने के फायदों के साथ-साथ इसके कुछ दुष्प्रभाव भी हैं, जिन्हें हम नीचे बताने जा रहे हैं।

    • 1. हल्दी और दूध के सेवन से कुछ लोगों को एलर्जी की शिकायत हो सकती है।
    • 2. कभी-कभी लोग हल्दी वाले दूध का अधिक सेवन करने लगते हैं, जिसका उल्टा असर भी हो सकता है। इसके अधिक सेवन से ईर्ष्या, अपच और दस्त हो सकते हैं।
    • 3. गर्भावस्था के दौरान, आपको डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही हल्दी वाले दूध का सेवन करना चाहिए।
    • 4. हल्दी के सेवन से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल की समस्या हो सकती है। यानी पेट में गैस, पेट फूलना और पेट संबंधी अन्य समस्याएं।
    • 5. कुछ दवाओं के साथ हल्दी का सेवन करने से दुष्प्रभाव हो सकते हैं। यदि आप एंटीकोआगुलंट की तरह एस्पिरिन दवा ले रहे हैं तो इसे न लें। गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवा भी हल्दी के साथ नहीं ली जानी चाहिए। इसलिए, जब भी आप हल्दी वाले दूध का सेवन करें, तो पहले अपने डॉक्टर से पूछें।
    • 6. हल्दी वाला दूध पीने के फायदे तो आप जान ही चुके हैं। बस अब जरूरत इस बात की है कि संयमी नानी के इस अचूक नुस्खे को आजमाया जाए, जिसकी पुष्टि कई शोधों में हो चुकी है। उम्मीद है, स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखने में यह लेख बहुत मददगार साबित होगा। इस लेख को अपने परिवार और दोस्तों के साथ साझा करें।


    ध्यान दें:
    इस लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के हैं। इस लेख में समाहित किसी भी जानकारी की सटीकता, पूर्णता, वैधता या वैधता के लिए उपचार । सभी जानकारी एक आधार पर प्रदान की जाती है। लेख में व्यक्त की गई जानकारी, तथ्य या राय हेल्थऍक्टिव्ह और हेल्थऍक्टिव्ह की राय को नहीं दर्शाती है, जिसके लिए हेल्थऍक्टिव्ह  कोई जिम्मेदारी या दायित्व स्वीकार नहीं करता है।

    Post a Comment

    तुम्हाला काही अडचण असेल तर तुम्ही कंमेन्ट करून विचारू शकतात

    थोडे नवीन जरा जुने